स्कूल भवन

विद्यालय परिसर की रूप रेखा

आपसभी को बताते हुए हर्ष हो रहा है कि सत्र 2018 19 में विद्यालय को इंटरमीडिएट तक विज्ञान वर्ग में मान्यता प्राप्त हो चुकी है |

इसके अलावा इसी सत्र में विद्यालय में विज्ञान कक्ष एवं कंप्यूटर कक्ष का अनावरण भी हुआ है जिसके माध्यम से विद्यार्थियों को आधुनिक ज्ञान एवं तकनीकी ज्ञान से भी रूबरू कराया जा सकेगा | टेक्नोलॉजी के क्षेत्र का दिन प्रतिदिन विस्तार होता ही जा रहा है और इसीलिए हमारे बच्चों को भी टेक्नोलॉजी के क्षेत्र से परिचित होना आवश्यक हो गया है जिसमें कि कंप्यूटर महत्वपूर्ण अंग है | इसी विचार के साथ विद्यालय में कंप्यूटर कक्ष की स्थापना की गई है | जिससे कि विद्यार्थियों को सामान्य विषयों के साथ साथ अतिरिक्त ज्ञान भी प्राप्त हो पायेगा |

विज्ञान कक्ष में रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान एवं वनस्पति विज्ञान से जुड़े हुए प्रयोगों को कराया जाना अब संभव हो गया है | इन विषयों का जितना ज्ञान मौखिक में होना चाहिए उतना ही ज्ञान प्रायोगिक भी होना चाहिए | इसीलिए बच्चों के बेहतर शिक्षा को और मजबूत बनाने के लिए इस प्रयोगशाला की स्थापना की गई है |

इसके अलावा इसी वर्ष से विद्यालय प्रांगण में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं जिनके माध्यम से पूरे प्रांगण में हो रही प्रत्येक गतिविधियों पर विद्यालय प्रशासन द्वारा निगरानी रखा जाना आसान एवं सुलभ हो गया है | सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से क्लास की प्रत्येक गतिविधियों पर अब बहुत ही सरलता से निगरानी रखी जा सकती है | यह विश्वास भी है कि सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से शिक्षा के स्तर में इजाफा होगा |
स्कूल भवन

स्कूल में उत्तम एवं व्यवस्थित भवनों का निर्माण कराया गया है जिससे कि विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को एक अच्छे माहौल में शिक्षा का आदान-प्रदान की पूर्ण व्यवस्था है |

कंप्यूटर कक्ष

कंप्यूटर विषय बहुत ही महत्वपूर्ण एवं जरूरी विषय बन चुका है इसी को ध्यान में रखते हुए विद्यालय में कंप्यूटर कक्ष की व्यवस्था कराई गई है और अब विद्यार्थियों को पढ़ाने के साथ-साथ कंप्यूटर पर प्रैक्टिकल कराना भी संभव है |

विज्ञान कक्ष

पढ़ाने के साथ-साथ अब उन पर प्रयोग करा कर दिखाना एवं विद्यार्थियों द्वारा स्वयं भी प्रयोग करके उसे देखना संभव है |

मैदान

बच्चों को खेलकूद के लिए व्यवस्थित मैदान की सुविधा उपलब्ध है एवं समय-समय पर प्रतियोगिताओं द्वारा बच्चों के हुनर को और निखारआ भी जाता है |

वाहन की सुविधा

दूरदराज के क्षेत्रों से बच्चों एवं अभिभावकों को आने में काफी कठिनाई होती है जिसके लिए विद्यालय द्वारा वाहन की व्यवस्था कराई गई है एवं यह सुविधा लगभग लगभग सभी गांव कस्बों तक उपलब्ध है |